Header Ads

Special One

Super Stories

Featured

मुक़म्मल

8:06 PM
  मुक़म्मल संध्या की वर्षा , हमेशा मुझे असीम सुख देती है , मन करता है कांतामयी इस बुहार का आलिंगन अपनी बाँहों में भर लूँ ..समेट लूँ उस हर एक...Read More

ड्रैकुला 35

7:46 PM
  पिछला भाग पढने के लिये यहाँ क्लिक करें 8 मीना मरे की डायरी उसी दिन, रात के 11 बजे— ओह, लेकिन मैं थक गई हूँ! अगर मैं ने डायरी लिखने को अपन...Read More

ड्रैकुला 34

7:42 PM
  पिछला भाग पढने के लिये यहाँ क्लिक करें "डेमेटर" का लॉग....जारी 4 अगस्त– अभी भी कोहरा छाया है, जिसे सूरज की किरणें भी पार नहीं ...Read More

Junaid Pathan's

Other Importent Stories